थाना सदर द्वारा पोती की हत्या का आरोपी दादा गिरफतार
Date : Monday, July 17, 2017

थाना सदर पर सुचना मिली थी कि जयपोल से एक किलोमीटर पहले एक बच्ची कि लाश पडी हैं। सुचना के आधार पर थाना पुलिस सदर घटनास्थल पर पहुॅची। मौके पर अज्ञात मृतका उम्र करीब 14-15 साल की लाश पडी थी। वहा पर मौजुद श्री रामेश्वर दयाल मीणा सहायक वनपाल अलवर कि रिपोर्ट पर मर्ग एफ आई आर दर्ज कर जॉच प्रारम्भ की गई थी। मृतका का मेडीकल बा से पोस्टमार्टम करवाया गया था। अज्ञात मृतका की पहचान के प्रयास किये गये मृतका के फोटो लिये जाकर मुश्तहरी जारी करवाकर भरसक प्रयास किये गये परन्तु अज्ञात मृतका की पहचान नही हो सकी थी। तथा मृतका का अन्तिम संस्कार पुलिस द्वारा करवा दिया गया था। मृतका की पहचान नही होने के कारण जॉच बन्द कर दी गई थी। दिनाक 04.02..2017 को मृतका की ताई श्रीमति सुनीता उर्फ सरिता चौधरी पुत्री स्वर्गीय जीतराम आयु करीब 28 साल जाति जाट निवासी 37 रामाननद नगर लाल डिग्गी के पीछे थाना अरावली विहार अलवर ने न्यायालय के माध्यम से रिर्पोट दर्ज करवाई की आरोपी 01 ईश्वर सिंह पुत्र मौल्लड सिंह जाति जाट निवासी खेण्डेवला हॉल निवासी 37 रामानन्द नगर अलवर व राजेश पुत्र ईश्वर सिंह जाति जाट निवासी खेण्डेवला थाना फर्रूख नगर जिला गुडगांवा हरियाणा कि मेरे देवर राजेश सिंह जाति जाट निवासी खेण्डेवला थाना फर्रूख नगर जिला गुडगांवा के एक पुत्री थी जिसका नाम धोली उफ्र प्रेमलता उम्र 14-15 साल थी जोकि मंद बुद्धि थी जिसका पिता राजेश व दादा ईश्वर सिंह पुत्र मौल्लड सिंह जाति जाट निवासी खेण्डेवला व मेरे मामा का लडका राकेश पुत्र महावीर धोली पुत्री राजेश को अलवर लाये थे। तथा यह लोग कह रहे थे कि यह लडकी धोली हमारी सामाजिक प्रतिष्ठा के लिए धक्का है जिससे हमारे काफी परेशानी हो सकती है इसलिए इसको जान से मार देना ही उचित होगा। मुझे कमरे मे बंन्द कर दिया और धोली को लेकर चले गए तथा बाद मे तीनो वापीस आये तो ईनके साथ मे घोली नही थी। उस समय राजेश ने मुझे बताया की धोली की हत्या लाश प्रतापबंध से आगे जयपोल के पास पटक दिया है। अगर तैने किसी को बताया तो तेरा भी यही हॉल होगा रिर्पोट पर अभियोग पंजीबद्व कर अनुसंधान किया गया। अनुसंधान से पाया कि राजेश की बेटी प्रेमलता उर्फ धोली बचपन से मन्द बुद्वी थी। इस वजह से उसके पिता राजेश व दादा ईश्वर सिह ने एक रिस्तेदार राकेश को साथ लेकर उसकी हत्या कर दी तथा लाश को जयपोल के पास पटक गये । अनुसंधान के पश्चात एक आरोपी ईश्वर सिह को गिरफतार कर पुछताछ के लिये पुलिस रिमाण्ड पर लिया गया है। घटना का कारण :- मृतका धोली उर्फ प्रेमलता जन्म से ही मन्द बुद्वी थी तथा आरोपी मुल्जिमान अपने व परिवार के उपर बोझ समझते थे इस वजह से मृतका के पिता ने अपने पिता के साथ षडयन्त्र करके अपने गॉव से किसी आश्रम मे दाखिल करवाने की बात कहकर घर से लेकर आये थै तथा अलवर मे लाकर गला घोटकर उसकी हत्या कर दी तथा अपनी गाडी मे डालकर जयपोल के पास पहाडी मे डालकर आ गये। मुल्जिम ईश्वर सिह अपनी पुत्रवधु तथा मुकदमा की मुस्तगिसा श्रीमति सुनीता उर्फ सरीता को अपने विवेकानन्द अलवर स्थित मकान मे अपने पास रखता था तथा उसके पति सुरेश को अपने गॉव खण्डेवला मे रखता था। सुरेश भी बचपन से ही मन्द बृद्वी का है तथा गलत सही किसी भी बात का भान नही रहता है। आरोपी ईश्वर सिह ने अपने अलवर वाले मकान के बारे मे व सुनिता को अपने पास रखने के बारे मे अपने घरवालो को भी नही बता रखा था। परिवादीया सुनीता को ईस हत्या के बारे मे पहले से ही पता था लेकिन उसने डर के मारे व लोक लाज के भय के मारे इस बारे मे रिपोर्ट दर्ज नही कराई थी।